Urdu poems and recitals

आशुफ्ता (Aashufta)

gif_temp.gif

Please click on the audio icon for recital

शाम है, गम है, तन्हाई है,

इस आशुफ्ता से मेरी सदियों की आशनाई हैl

तुम ने हथेलियों पे नन्हे से ख्वाब छोड़े हैं,

डूब जाता मैं, लहरों ने मात खाई हैl

शाम है, गम है, तन्हाई हैl

की ज़माने से नहीं हम वबस्त,

क्या बताऊँ कि आँख क्यों भर आई हैl

दुखों का आलम ना पूछ हमसे,

सूखी हुईं धरती पर बरसात आई हैl

शाम है, गम है, तन्हाई हैl

सहमे हुए लोगों को यहाँ देखा है,

ना मालूम हुआ वो मेरी ही परछाई हैl

जागते हुए आखों को अब नींद कहाँ,

कभी फुरक़त, कभी फुर्शत की दुआ आई हैl

शाम है, गम है, तन्हाई हैl

अपने जज़्बात, नज़रो से बयां होने दो,

हम तो समझेंगे, एक ही ज़ुबा पाई हैl

शाम है, गम है, तन्हाई हैl


Urdu meanings in English

आशुफ्ता (aashufta): Uneasiness

आशनाई (aashnaa.ii): Friendship

फुरक़त (furqat): Absence

Reference : https://www.rekhta.org/urdudictionary/